पूरी दुनिया में जिस तेजी से ऑडियो वीडियो का बाजार फैलता जा रहा है, इसे देखते हुए इस क्षेत्र में करियर की अपार सम्भावना से बिलकुल भी इंकार नहीं किया जा सकता है।  एक सर्वे के अनुसार २०२२ तक पूरी तरह से अपने चयन के अनुसार प्रोग्राम देखने की सहूलियत मिल जाएगी और यूट्यूब जैसे अन्य कई प्लेटफार्म इंटरनेट पर छा जायेंगे।  फिल्म और वीडियो डिस्ट्रीब्यूशन के नए नए और आसान तकनीक आ जाने से फिल्म आउट टीवी उद्दोग अपने चरम पर होंगे। ऐसी स्थिति में ट्रेंड फिल्ममेकर्स और टेक्निसिअन्स की जरुरत सबको होगी । 
व्यापार और सरकारी विवाग के हर क्षेत्र में फिल्ममेकिंग एक अनिवार्य विषय हो जायेगा।  
अतः आज अन्य सभी हाइली पेड करियर की तरह फिल्ममेकिंग भी सबका पसंदीदा होने के साथ साथ नाम और दाम देने वाला करियर हो गया है।